JEAN PIAGET THEORY

1.यह सिद्धान्त ज्ञान की प्रकृति के बारे में है और बतलाता है कि मानव कैसे ज्ञान क्रमशः इसका अर्जन करता है, कैसे इसे एक-एक कर जोड़ता है और कैसे इसका उपयोग करता है।

2.
व्यक्ति वातावरण के तत्वों का प्रत्यक्षीकरण करता है; अर्थात् पहचानता है, प्रतीकों की सहायता से उन्हें समझने की कोशिश करता है तथा संबंधित वस्तु/व्यक्ति के संदर्भ में अमूर्त चिन्तन करता है। 

3.
कोई भी व्यक्ति वातावरण में उपस्थित किसी भी प्रकार के उद्दीपकों (स्टिमुलैंट्स) से प्रभावित होकर सीधे प्रतिक्रिया नहीं करता है, पहले वह उन उद्दीपकों को पहचानता है, ग्रहण करता है, उसकी व्याख्या करता है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि संज्ञात्माक संरचना वातावरण में उपस्थित उद्दीपकों और व्यवहार के बीच मध्यस्थता का कार्य करता हैं

4. पियाजे ने व्यापक स्तर पर संज्ञानात्मक विकास का अध्ययन किया। पियाजे के अनुसार, बालक द्वारा अर्जित ज्ञान के भण्डार का स्वरूप विकास की प्रत्येक अवस्था में बदलता हैं और परिमार्जित होता रहता है।

5. पियाजे के संज्ञानात्मक सिद्धान्त को विकासात्मक सिद्धान्त भी कहा जाता है। चूंकि उसके अनुसार, बालक के भीतर संज्ञान का विकास अनेक अवस्थाओ से होकर गुजरता है, इसलिये इसे अवस्था सिद्धान्त (STAGE THEORY ) भी कहा जाता है।

पियाजे (Jean Piaget) ने संज्ञानात्मक विकास को चार अवस्थाओं में विभाजित किया है-

1.संवेदिक पेशीय अवस्था (Sensory Motor stage) : जन्म के 2 वर्ष

2.पूर्व-संक्रियात्मक अवस्था (Pre-operational stage) : 2-7 वर्ष

3.मूर्त संक्रियात्मक अवस्था (Concrete Operational stage) : 7 से11 वर्ष

4.अमूर्त संक्रियात्मक अवस्था (Formal Operational stage) : 12 +

 BLOGGER

https://sonaleejain.blogspot.com/2021/03/httpsyoutu.html

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page