बाल विकास – वृद्धि व विकास (Growth & Development) – Important Points- Global World Academy

बाल विकास

बालक के विकास की प्रक्रिया

 

Outlines-

  1. वृद्धि 
  2. विकास
  3. वृद्धि विकास मैं अंतर
  4. मानव विकास की अवस्थाये
  5. बालक के अवस्थाये उनका अधिगम से संबंध

a)शैशव अवस्था

  • कथन
  • विशेषताएँ
  1. b) बाल्यवस्था
  • कथन
  • विशेषताएँ

c)किशोरावस्था

  • कथन
  • विशेषताएँ

6.विकास के आयाम अधिगम से संबंध

1)शारीरिकशैशव,बाल, किशोर अवस्था

2)मानसिकशैशव,बाल, किशोर अवस्था

3) संवेगिकशैशव,बाल, किशोर अवस्था

4)सामाजिकशैशव,बाल,किशोर अवस्था

7.विकास को प्रभावित करने वाले कारक

  1. वंशानुक्रम
  2. वातावरण
  3. आहार
  4. रोग
  5. अन्तः स्त्रावी ग्रन्थी
  6. बुद्धि
  1. One liner arrangements
  2. Multiple choice questions
 

अभिवृद्धि

विकास

1

यह एक निश्चित क्रम के बाद रुक जाती है।

यह निर्रन्तर चलने वाली प्रक्रिया है।

2

यह एक संकुचित प्रक्रिया है।यह विकास का एक मात्र अवयव है।

यह व्यापक है।इसका संबंध न केवल शरीर से बल्कि संवेगात्मक ,सामाजिक,मानसिक विकास से है।

3

इनमे व्यक्तिगत भेद पाए जाते है।

विकास मैं समानता होती है।लेकिन इसकी सीमा/दर मैं परिवर्तन होता है।

4

यह मात्रात्मक,प्रत्यक्ष व बाह्य होती है।

यह अप्रत्यक्ष व आंतरिक होता है।

5

इसे नापा ,तोला जा सकता है।

इसे अनुभव किया जा सकता हैं।

कथन

  1. क्रो एंड क्रो के अनुसारशैशव अवस्था जीवन की सबसे महत्वपूर्ण अवस्था है।
  2. वेलेंटाइन के अनुसारशैशव अवस्था सीखने का आदर्श काल है।
  3. थानडाइक के अनुसार-3-6 वर्ष की अवस्था प्रायः अर्धस्वपनावस्था की अवस्था होती है।
  4. फ्रायड के अनुसारव्यक्ति को जो भी बनना हो वह 5 वर्ष की अवस्था मे बन जाता है।
  5. वाट्सन के अनुसारशैशव अवस्था मे शिखन की गति विकास की सीमा अन्य अवस्था की तुलना मे अधिक हो जाती है।
  6. गेसल के अनुसारप्रथम 6 वर्ष के बाद बालक 12 वर्ष का दुगना सिख जाता है।
  7. गुड एन एफ के अनुसारव्यक्ति का जितना भी मानसिक विकास होता है उसका आधा 3 वर्ष की आयु तक हो जाता है।

बाल्यावस्था में शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और संवेगात्मक विकास से संबंधित अत्ति महत्वपूर्ण प्रश्र उत्तर 

  1. बाल्यावस्था की उम्र होती है (Childhood age) –

उत्तर – 6 से 12 वर्ष तक

  1. बालक में सामाजिक विकास की प्रक्रिया कब प्रारंभ होती है –

When the process of social development begins in a child –

उत्तर – 2 माह की अवस्था में।

  1. ‘टोली की आयु’ (Gange Age) कहा जाता है –

उत्तर – बाल्यावस्था (childhood) को।

  1. जीवन का निर्माणकारी काल कहा गया है –

उत्तर – बाल्यावस्था (childhood) को।

5.किस अवस्था में बालकों में संवेगात्मकता से सामाजिकता का भाव आ जाता है –

उत्तर – बाल्यावस्था में।

6.बाल्यावस्था को ‘मिथ्या परिपक्वता’ (Pseudo Maturity) का काल किसने कहा –

उत्तर – रॉस ने।

  1. बाल्यावस्था को ‘काम भावना की प्रसुप्तावस्था’ किसने कहा –

उत्तर – फ्रॉयड ने।

  1. बालक के संज्ञानात्मक विकास (Cognitive development) का गहराई से अध्ययन किसने किया

उत्तर – जीन पियाजे (Piaget’s) ने।

  1. संवेदी गतिक काल (Sensorimotor Period) की अवस्था है –

उत्तर – जन्म से 2 वर्ष की।

10.संवेदी गतिक’ से अभिप्राय है –

उत्तर- बालक अपने पर्यावरण को समझने लगता है। बालक वस्तु को छूता है उसमें हरकत पैदा करता है और अपने आसपास के वातावरण को समझता है।

MATHS COMPLETE NOTES 99/-

CDP COMPLETE NOTES 500/-( NOTES 150/-  ,   QUESTION SERIES 150/-)

EVS COMPLETE NOTES 300/-

For more details contact 8770803840

Website    www.globalworldacademy.com

Telegram   https://t.me/globalworldteaching

 for any doubt mail us on   sonali@globalworldacademy.com

YouTube channel link  https://www.youtube.com/channel/UCAUjpk6WmdECWyGj90yl9Qg

New YouTube channel link https://www.youtube.com/channel/UCkoP11nnyf4Myr6MQE5dFuw

Instagram https://www.instagram.com/invites/contact/?i=1w4h531rypn24&utm_content=jtgli3d

 

 

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page